38.1 C
Raipur
Thursday, June 13, 2024

बेमेतरा जिले के बारूद फैक्ट्री में ब्लास्टः कई मकान जमींदोज, घायलों को अस्पताल भेजा गया, विजय शर्मा, अरुण साव और पूर्व CM भूपेश ने यह कहा

बेरला. न्यूजअप इंडिया
बेमेतरा जिले के बेरला ब्लॉक स्थित ग्राम बोरसी-पिरदा के बारूद फैक्ट्री में शनिवार सुबह ब्लॉस्ट में 10 से 12 लोगों के मारे जाने की आशंका है। इतनी बड़ी घटना के बाद भी बेमेतरा जिला प्रशासन और पुलिस की टीम तीन घंटे बाद घटनास्थल पर पहुंची। वहीं 4 घंटे बाद दमकल की गाड़ियां मौके पर पहुंची है। घायलों को एम्बुलेंस से रायपुर और आसपास के हास्पिटल में भर्ती कराया गया है। ब्लास्ट में कंपनी के अंदर की कुछ इमारतें जमींदोज हो गई है। हादसे के बाद ग्रामीणों का आक्रोश भी बढ़ता जा रहा है। ग्रामीणों को कोई सही जानकारी नहीं दे रहा है।

स्पेशल ब्लास्ट कंपनी में विस्फोट की आवाज 5-6 किलोमीटर दूर तक सुनाई दी। विस्फोट की वजह से प्लांट का एक हिस्सा पूरी तरह से जमींदोज और क्षतिग्रस्त हो चुका है। 7 घायल मजदूरों को एंबुलेंस के जरिए उपचार के लिए रायपुर के मेकाहारा और एम्स अस्पताल भेजा गया है। ग्रामीणों का कहना है कि 12 से 15 लोगों की खबर नहीं मिल रही है। कितने लोग हताहत हुए हैं, कितने लोग घायल हुए हैं, इसकी अभी तक सही जानकारी जिला प्रशासन के अफसर और कंपनी द्वारा नहीं दी जा रही है।

छत्तीसगढ़ के डिप्टी सीएम विजय शर्मा ने बताया कि बेरला ब्लाक के पिरदा गांव में फैक्ट्री है। बारूद कंपनी में हादसे की खबर है। कितने लोग हताहत हुए हैं यह जानकारी अभी सामने नहीं आई है। कलेक्टर-एसपी सहित प्रशासनिक और पुलिस का अमला मौके पर मौजूद है। जांच चल रही है। घायलों को रेस्क्यू किया जा रहा है।

छत्तीसगढ़ के उप मुख्यमंत्री अरुण साव ने कहा, “बेमेतरा में एक बारूद फैक्ट्री में विस्फोट होने की जानकारी मिली है। मैं प्रशासन के लोगों से लगातार संपर्क में हूं। प्रशासन की पूरी टीम घटनास्थल पर मौजूद हैं। दमकल की गाड़ियों को भी बुलाया गया है। राहत और बचाव कार्य शुरू हो गया है। घायलों को इलाज के लिए रायपुर भेजा गया है।” उन्होंने कहा कि मलबा में कितने लोग दबे हैं यह राहत और बचाव कार्य के बाद ही पता चलेगा।

इधर छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सोशल मीडिया X पर लिखा- ‘बेमेतरा में बारूद फैक्ट्री में हुए ब्लास्ट से 10-12 श्रमिकों के असामयिक निधन का दु:खद समाचार मिला। ईश्वर से मृतात्माओं को सद्गति देने एवं घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना करता हूं। सूचना है कि 3 घंटे तक बचाव दल नहीं पहुँचा है। शासन, प्रशासन बचाव कार्य सुनिश्चित करे एवं पीड़ितों को उचित मुआवज़ा दे।’

जांच के बाद ही स्थिति स्पष्ट हो पाएगी
बेमेतरा कलेक्टर रणबीर शर्मा ने बताया कि जैसे ही एसडीआरएफ की टीम आएगी मलवा हटाने का कार्य तुरंत शुरू कर दिया जाएगा। घटना की मुख्य वजह क्या यह जांच के बाद ही पता चलेगा। यह बारूद फैक्ट्री थी, केमिकल्स भी यहां थे, लेकिन किन कारणों से ब्लास्ट हुआ यह अभी बताना थोड़ा मुश्किल है। उन्होंने कहा कि मैं फैक्ट्री के संचालकों से बात कर रहा हूं। कितने मजदूर काम कर रहे थे, कितने लोगों को रोजगार दिया है, सुरक्षा के क्या इंतजाम है। सभी मुद्दों की जानकारी लेकर और जांच के बाद स्थिति स्पष्ट होगी। घायलों को रायपुर के मेकाहारा और एम्स अस्पताल रवाना किया गया है।

कंपनी में सुरक्षा मानकों की अनदेखी
स्पेशल ब्लास्ट कंपनी में सुरक्षा मानकों की अनदेखी से यह हादसा हुआ है। यह कारखाना हाई एक्सप्लोजिव कारखाना है। जरा सी चूक बड़ी हानि पहुंचा सकती है। कारखाना से निकले बारूद का इस्तेमाल पत्थर और लौह अयस्क माइंस में होता है। ग्रामीण बताते हैं कि माइंस में सुरक्षा मानकों को कभी प्राथमिकता नहीं दिया गया। एक्सप्लोजिव वैन में बारूद सप्लाई के दौरान भी कोई सुरक्षा व्यवस्था नहीं होती। ग्रामीण क्षेत्र में होने की वजह से जिला प्रशासन के अफसर भी कभी जांच के लिए नहीं आते। इसी का फायदा कंपनी मालिक उठाते हैं।

Latest news
Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here