38.1 C
Raipur
Thursday, June 13, 2024

‘किसकी “गारंटी” और किसके “सुशासन” में गुनहगारों को संरक्षण’, भूपेश बोले- जवाब तो देना होगा, सत्ता के किस करीबी को बचाने का प्रयास?

रायपुर. न्यूजअप इंडिया
छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बेमेतरा जिले के स्पेशल ब्लास्ट लिमिटेड में हुए विस्फोट पर मोदी की गारंटी और विष्णुदेव साय सरकार के सुशासन पर सवाल उठाया है। भूपेश ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट X पर लिखा- ‘बेमेतरा ब्लास्ट: किसकी “गारंटी” और किसके “सुशासन” में गुनेहगारों को संरक्षण दिया जा रहा है? सत्ता के किस करीबी को बचाने का प्रयास है?’ भूपेश बघेल ने पांच सवाल पूछते हुए @ChhattisgarhCMO से जवाब मांगा है।

भूपेश ने लिखा- ‘इस दिल दहलाने वाली घटना में मृतकों के शरीर के चीथड़े उड़ गए हैं। शरीर के अंगों को पॉलीथिन में जमा करके DNA जाँच के लिए भेजा गया है। लेकिन इतने भयावह हादसे के बाद अब तक FIR दर्ज नहीं हुई है। सवालों के जवाब तो देने होंगे…।’ बता दें कि 25 मई को बेरला ब्लाक के पिरदा-बोरसी गांव के स्पेशल ब्लास्ट कंपनी में विस्फोट हो गया था। इस हादसे में 7 लोग घायल हुए थे। एक की अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई। जबकि मलबे से मानव शरीर के अंग मिले हैं। शासन अब तक यह नहीं बता पाया है कि कितने लोगों की मौत हुई है। इसे लेकर सत्ता पक्ष पर विपक्षी पार्टी कांग्रेस हमलावर है।

बता दें कि कंपनी प्रबंधन ने 8 लोगों के लापता होने की जानकारी जिला प्रशासन को दी है। इसके आधार प्रशासन भी इतने ही लोगों की गुमशुदगी की बात मान रही है, जबकि ग्रामीण इससे ज्यादा मजदूरों के घर नहीं लौटने की बात कह रहे हैं। दूसरे राज्यों के कुछ मजदूरों के फैक्ट्री में काम करने की चर्चा है। घटना के तीन दिन बीत जाने के बाद भी लापता लोगों के परिजनों को अब तक सही जानकारी नहीं मिल रही है। ग्रामीणों के मुआवजा लेने से इनकार करने की चर्चा है। स्पेशल ब्लास्ट लिमिटेड के मालिक संजय चौधरी की है और वह एक पूर्व मुख्यमंत्री के रिश्तेदार बताए जा रहे हैं।

भूपेश बघेल ने इन सवालों के मांगे जवाब

  • 1. 48 घंटे बाद भी घटना की अब तक FIR क्यों नहीं?
  • 2. क्या प्रशासन ने फैक्ट्री प्रबंधन से पूछा है कि घटना वाले दिन कितने मजदूर वहां काम पर गए थे?
  • 3. अब तक कितने मजदूर लापता हैं, क्योंकि प्रशासन के 8 लोगों के दावे को तो ग्रामीण नकार रहे हैं।
  • 4. क्षमता से अधिक रखी विस्फोटक सामग्री को क्यों निकाला जा रहा है? जाँच में विस्फोटक सामग्री की क्या मात्रा दर्ज की जाएगी?
  • 5. प्रशासन ने मृतकों के परिजनों को जो मुआवज़ा देने की घोषणा की है, उसे तो लेने से ग्रामीणों ने इनकार कर दिया है। क्या प्रशासन मुआवजा बढ़ाएगा?

    हादसे पर कांग्रेस कर रही राजनीतिः अरुण साव
  • उप मुख्यमंत्री अरुण साव ने बेमेतरा बारूद फैक्ट्री की घटना पर कहा कि सरकार शुरू से इस घटना को लेकर गंभीर है। तेजी से राहत और बचाव कार्य किया गया। सेना की विशेषज्ञ टीम से मदद ली गई, लेकिन कांग्रेस इस पर राजनीति कर रही है। कांग्रेस का जांच दल घटना स्थल पर गया था। इस दौरान प्रशासन ने उनका पूरा सहयोग किया। साव ने कहा कि मामले की मजिस्ट्रियल जांच कराई जाएगी। जांच में जो भी दोषी होगा, उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
Latest news
Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here