32.6 C
Raipur
Monday, May 20, 2024

बहुचर्चित कोल स्कैम केस की सुनवाई, विधायक सहित 9 आरोपी कोर्ट में नहीं हुए हाजिर, जज ने जेलर को लगाई फटकार

रायपुर. न्यूजअप इंडिया
छत्तीसगढ़ के कोयला स्कैम मामले में रायपुर कोर्ट में बुधवार को सुनवाई हुई। प्रवर्तन निदेशालय (ED) द्वारा आरोपी बनाए गए कांग्रेस विधायक देवेंद्र यादव, पूर्व विधायक चंद्रदेव राय सहित 9 लोग कोर्ट में हाजिर नहीं हुए। कोर्ट ने तीसरी बार हाजिर होने का नोटिस जारी किया था। कोयला स्कैम मामले की सुनवाई विशेष न्यायाधीश अजय सिंह राजपूत की अदालत में हुई। इधर जेल में बंद आरोपियों को भी कोर्ट नहीं लाए जाने पर ईडी के वकील ने आपत्ति जताई। इसके बाद जेलर को कोर्ट में बुलाया गया। जज ने जेलर को फटकार लगाई। आनन-फानन में जेल प्रशासन ने लंच के बाद वीडियो काफ्रेंस के जरिए कोर्ट में पेश किया। कोर्ट ने सुनवाई की अगली तारीख 6 जनवरी तय की है।

बता दें कि छत्तीसगढ़ के बहुचर्चित कोल स्कैम केस में रायपुर की स्पेशल कोर्ट ने आरोप पत्र स्वीकार किया है। प्रवर्तन निदेशालय (ED) के आरोप पत्र में भिलाईनगर विधायक देवेंद्र यादव, पूर्व विधायक चंद्रदेव राय, आईएएस रानू साहू समेत 11 लोगों को आरोपी बनाया गया है। मामले में 9 लोगों को कोर्ट ने नोटिस जारी किया था। 11 आरोपियों में से रानू साहू, निखिल चंद्राकर पहले ही जेल में हैं। दो विधायकों सहित सभी आरोपियों को अग्रिम जमानत लेनी है। अगर जमानत नहीं मिली तो कोर्ट उन्हें गिरफ्तार करने का आदेश दे सकती है। कोयला स्कैम केस में ED ने निलंबित आईएएस रानू साहू, निखिल चंद्रकार समेत विधायक देवेंद्र यादव, विधायक चंद्रदेव राय, कांग्रेस नेता आरपी सिंह, विनोद तिवारी, रोशन सिंह, पीयूष साहू, नारायण साहू, मनीष उपाध्याय को आरोपी बनाया है। रानू साहू को 22 जुलाई को गिरफ्तार किया गया था। बाकी के 9 आरोपियों को अब तक गिरफ्तार नहीं किया गया है। केस की पहली सुनवाई 25 अक्टूबर को हुई थी।

अग्रिम जमानत नहीं तो जेल भी जाना पड़ेगा
कोल स्कैम घोटाले में न्यायधीश अजय सिंह राजपूत की कोर्ट में सुनवाई होने के बाद ईडी के वकील डॉ. सौरभ कुमार पांडेय ने बताया, कोल स्कैम में निलंबित IAS रानू साहू और निखिल चंद्राकर पहले ही जेल में है। 11 आरोपियों में से बाकी 9 आरोपियों को नोटिस जारी किया गया है। मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट गैर जमानती है। लिहाजा 9 आरोपियों को पहले अग्रिम जमानत लेनी होगी। अगर वे अग्रिम जमानत नहीं लेते और कोर्ट में पेश होते हैं तो न्यायालय अपनी कस्टडी में जेल भेज सकती है। वहीं आरोपी कोर्ट में पेश ही नहीं होते तो गैरजमानती वारंट जारी हो सकता है।

550 करोड़ के कोल स्कैम का खुलासा किया
ईडी ने 550 करोड़ के अवैध कोल परिवहन का केस दर्ज किया है। कोल परिवहन में प्रति टन 25 रुपये कमीशन वसूलने का आरोप है। मुख्यमंत्री के उप सचिव रहीं सौम्या चौरसिया, IAS रानू साहू, IAS समीर विश्नोई, खनिज अधिकारी शिवशंकर नाग, संदीप नायक, कारोबारी सूर्यकांत तिवारी, सुनील अग्रवाल, लक्ष्मीकांत तिवारी, निखिल चंद्राकार, दीपेश टांक और राजेश चौधरी को गिरफ्तार किया गया है। सभी जेल में है। इसके अलावा कांग्रेस नेता और कुछ कारोबारी ईडी के जांच के दायरे में है। इन लोगों से पूछताछ की गई है और इनके घरों से कुछ दस्तावेजों को भी जब्त किया गया है।

Latest news
Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here