33.1 C
Raipur
Wednesday, May 29, 2024

छत्तीसगढ़ में हारी बाजी जीतने का BJP प्लानः 69 सीटों पर प्रत्याशी तय, MP की तरह यहां भी इन सांसदों पर दांव खेलने की तैयारी!

रायपुर. न्यूजअप इंडिया

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी ने बची 69 सीटों पर प्रत्याशी फाइनल कर लिए हैं। केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक के बाद दूसरी सूची का ऐलान हो जाएगा। इस सूची में 40 नामों की घोषणा हो सकती है। ऐसी संभावना जताई जा रही है कि परिवर्तन यात्रा के समापन पर आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बिलासपुर आएंगे और दूसरे दिन 1 अक्टूबर को केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक होगी। राजनीतिक गलियारों में इस बात की भी चर्चा है कि मध्य प्रदेश की तर्ज पर भाजपा छत्तीसगढ़ में 6 सांसदों को प्रत्याशी बना सकती है। इधर केंद्रीय नेताओं के लगातार छत्तीसगढ़ दौरे ने टिकट के दावेदारों की धड़कनें तेज कर दी है।

बता दें कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष की गुरुवार को प्रदेश के चुनिंदा पदाधिकारियों के साथ देर रात तक मैराथन बैठक हुई थी। बैठक में मिशन-2023 के साथ बची 69 विधानसभा सीटों के प्रत्याशियों को लेकर विस्तार से मंथन किया गया। 21 सीटों पर प्रत्याशियों की घोषणा के बाद अब दूसरी लिस्ट जारी करने की तैयारी है। ऐसी सूचना बता दें कि प्रदेश में इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव की कमान खुद अमित शाह ने संभाल रखी है। दो दिन पहले उनका आना हुआ, लेकिन अचानक उनके साथ राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष भी जयपुर से रायपुर पहुंचे थे।

एक-एक प्रत्याशी के नाम पर मंथन
रायपुर में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा और महामंत्री बीएल की कुशाभाऊ ठाकरे परिसर में प्रदेश के प्रभारी और चुनाव प्रभारी ओम माथुर, सह चुनाव प्रभारी मनसुख मंडाविया, सह प्रभारी नितिन नवीन, क्षेत्रीय संगठन महामंत्री अजय जामवाल, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह, प्रदेशाध्यक्ष अरुण साव, नेता प्रतिपक्ष नारायण सिंह चंदेल, प्रदेश संगठन महामंत्री पवन साय, महामंत्री केदार कश्यप, महामंत्री ओपी चौधरी के साथ मैराथन बैठक हुई। इस बैठक में प्रत्याशियों के पैनल को सामने रखकर एक-एक विधानसभा को लेकर मंथन किया गया। इसके बाद सभी विधानसभाओं के लिए प्रत्याशियों के नाम लगभग फाइनल कर दिए गए हैं।

चुनाव समिति की बैठक में लगेगी मुहर
रायपुर की बैठक में प्रत्याशियों के नाम तो फाइनल हो गए हैं, लेकिन इनके नामों पर अंतिम मुहर केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में ही लगेगी। संभावना जताई जा रही है कि बैठक 1 अक्टूबर को हो सकती है। प्रधानमंत्री के सामने प्रदेश में तय किए गए नामों की सूची रखकर उनकी सहमति भी ली जा सकती है, लेकिन सब प्रधानमंत्री की मंशा पर निर्भर रहेगा। अगर वे प्रदेश के नेताओं के साथ बैठक में फैसला करना चाहेंगे तो प्रदेश के चुनिदा नेताओं को दिल्ली बुलाया जा सकता है। ऐसे में नामों की घोषणा एक या दो अक्टूबर को हो सकती है।

राष्ट्रीय नेताओं ने जाने जनता के सुझाव
राजनीतिक सूत्रों की मानें तो राष्ट्रीय नेतृत्व के नेताओं ने प्रदेश के नेताओं से घोषणा पत्र समिति के कामों की पूरी जानकारी लेकर यह जानने का प्रयास किया गया कि घोषणा पत्र समिति के पास किस तरह के सुझाव आए हैं। इन सुझावों को लेकर राष्ट्रीय संगठन तय करेगा कि किन सुझावों को घोषणापत्र में शामिल करना है। शाह और नड्डा ने परिवर्तन यात्रा की भी समीक्षा की है। राष्ट्रीय नेताओं को पूरी यात्रा की जानकारी दी गई। इसके अलावा भाजपा की पहली सूची को लेकर जो विवाद चल रहा है, उसके बारे में जानकारी ली गई कि नाराज नेताओं को मनाने के लिए क्या किया गया है।

इन सांसदों को प्रत्याशी बनाने की चर्चा
छत्तीसगढ़ के राजनीतिक गलियारों में ऐसी भी चर्चा है कि भाजपा अपने कुछ सांसदों को विधानसभा चुनाव में उतार सकती है। भाजपा के पास अभी 9 लोकसभा सांसद हैं। इसमें भाजपा प्रदेश अध्यक्ष व बिलासपुर सांसद अरुण साव, रायपुर सांसद सुनील सोनी, केंद्रीय राज्य मंत्री रेणुका सिंह, राज्यसभा सांसद सरोज पांडेय, राजनांदगांव के सांसद संतोष पांडे, महासमुंद के सांसद चुन्नीलाल साहू और रायगढ़ की सांसद गोमती साय का नाम शामिल है। ऐसा इसलिए भी कि छत्तीसगढ़ भाजपा की पहली सूची में दुर्ग के सांसद विजय बघेल को पाटन से प्रत्याशी बनाया गया है। वहीं मध्य प्रदेश की दूसरी सूची में 3 केंद्रीय मंत्रियों सहित 7 सांसदों को उम्मीदवार घोषित किया गया है।

Latest news
Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here