26.4 C
Raipur
Friday, June 21, 2024

उधार पर उम्मीदवारीः कर्ज लेकर दो बार लोकसभा, तीन बार विधानसभा और 3 बार जनपद का लड़ा चुनाव, 2024 में अब इस पार्टी से हैं प्रत्याशी

छतरपुर. न्यूजअप इंडिया
मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले का रहने वाला एक युवक उधारी के पैसों से चुनाव लड़ रहा है। वह हर चुनाव में उम्मीदवारी करता है। वह अब तक 8 बार चुनाव लड़ चुका है और 9वीं बार फिर मैदान में है। इससे पहले वह दो बार लोकसभा चुनाव, 3 बार विधानसभा चुनाव और 3 बार जनपद का चुनाव लड़ चुका है। 2024 के लोकसभा चुनाव में फिर किस्मत आजमा रहा है। उसे उम्मीद है कि वह इस बार भारी मतों से चुनाव जीतेंगे और जनता की सेवा करेंगे।

लोकसभा चुनाव लड़ने वाले छत्तरपुर जिले के इस युवक का नाम है इमरान…। मध्य प्रदेश की चर्चित लोकसभा सीट खजुराहो से इमरान जन सद्भावना पार्टी की टिकट से लोकसभा चुनाव लड़ रहा है। वह राजनगर विधानसभा के ललपुर गांव का मूल निवासी है। इमरान की उम्र अभी 39 साल है और वह पेशे से एक फोटोग्राफर है। डिटिजल और ऑनलाइन से जुड़े काम कर वह अपना परिवार चलाता है। इमरान की दो बेटियां हैं। इमरान के पिता चुड़ी बेचने का काम करते हैं।

चुनाव लड़ने हर बार लेते हैं कर्ज
इमरान के पिता समी उल्ला खां बताते है कि इमरान का सपना जनप्रतिनिधि बनने का है। वह पिछले 18 सालों से चुनाव लड़ता आ रहा है। इमरान ने अभी तक 3 बार राजनगर विधानसभा से विधायकी का चुनाव और 2 बार सांसदी का चुनाव खजुराहो लोकसभा सीट से लड़ा है। 2024 में खजुराहो सीट से लोकसभा का चुनाव फिर लड़ रहा है। चुनाव लड़ने के लिए इमरान हर बार दोस्तों रिश्तेदारों से कर्ज लेता है और फिर 5 सालों तक मेहनत कर कर्ज के पैसे चुकाता है।

चुनाव लड़ने का सिर पर जुनून सवार
इमरान ने बताया कि उसका सपना एक बार चुनाव जीतने की है। इमरान अपने क्षेत्र, गांव के लिए कुछ करने की तमन्ना रखता है। इमरान का कहना है कि उसके क्षेत्र में स्वास्थ्य, शिक्षा और बेरोजगारी को लेकर समस्या है। इमरान ने इस बार लोकसभा चुनाव लड़ने 5 लाख रुपये और इससे पहले हुए विधानसभा चुनाव में 7 लाख रुपये दोस्तों और रिश्तेदारों से कर्ज लिया है। इमरान को उम्मीद है कि एक न एक दिन वह चुनाव जीतेंगे और वह जनप्रतिनिधि बनेंगे।

परिवार के साथ ई-रिक्शा में कर रहा प्रचार
2024 के लोकसभा चुनाव में इमरान लगातार जनसंपर्क कर रहा है। वह सुबह-सुबह अपने परिवार के सदस्यों और प्रचार सामग्री को लेकर अपने ई-रिक्शा पर बैठकर प्रचार के लिए निकल जाता है। रिक्शे में उनके पिता, बच्चों के अलावा पत्नी भी होती है। इमरान की पत्नी तरन्नुम बानो कहती है कि उनका पत्नी हर बार चुनाव के लिए कर्ज लेता है। उन्हें बुरा लगता है, लेकिन उनका सपना है चुनाव जीतने का इसी लिए वह इमरान को सपोर्ट करती है।

Latest news
Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here